सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के प्राइवेटाइजेशन को लेकर, सरकार की योजना के विरोध में, बैंक यूनियनों ने इस सप्ताह दो दिन, यानि 16 दिसंबर और 17 दिसंबर को बैंक हड़ताल की घोषणा की है। यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन, बैंकों के प्राइवेटाइजेशन का विरोध कर रहा है, और इसी विरोध प्रदर्शन के लिए वह दो दिन की हड़ताल कर रहे हैं। इन दो दिवसीय हड़ताल से, बैंक के सामान्य कामकाज पर असर पड़ सकता है। ग्राहक बैंक जाने से बचें.

bank strike 16 Dec, 17 dec

भारतीय स्टेट बैंक सहित अन्य सार्वजनिक क्षेत्र के कई बैंकों ने, बैंक यूनियनों से 16 दिसंबर और 17 दिसंबर को, राष्ट्रव्यापी हड़ताल पर जाने के अपने फैसले पर पुनर्विचार करने का आग्रह किया है। साथ ही बैंकों ने यूनियनों को बातचीत के लिए बुलाया है।

16 और 17 दिसंबर को हड़ताल का मुख्या कारण, बैंकिंग कानून (संशोधन) विधेयक 2021 और सरकारी बैंकों के निजीकरण है. तो दो दिन बैंक बैंक रहेंगे. अपनी मांगों के समर्थन में 16 और 17 दिसंबर 2021 को, बैंक यूनियन ने देशव्यापी बैंक हड़ताल पर जाने का प्रस्ताव रखा है। आपको ज्ञात होगा की बजट में सरकार ने दो सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का निजीकरण करने की घोषणा की थी।